केंद्र सरकार द्वारा 50 दिनों का रिपोर्ट कार्ड पेश करने पर कांग्रेस ने उठाया सवाल

रायपुर/22 जुलाई 2019। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता मोहम्मद असलम ने कहा है कि जुमलेबाजी में माहिर केंद्र की 17वीं लोकसभा की मोदी सरकार 50 दिनों के कार्यकाल को पूरा करते ही कुछ योजनाओं का उदाहरण देते हुए 2019 के घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा करने का बेसुरा राग अलाप रही है। केंद्र सरकार के 50 दिनों को पूरा करने पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के रिपोर्ट कार्ड पेश करने पर कांग्रेस ने सवाल उठाया है कि क्या छत्तीसगढ़ की सरकार 353 सांसदों का बहुमत हासिल करते ही वर्ष 2014 के वादों से मुकरना चाहती है। जिसमें बेरोजगार लोगों को प्रति वर्ष दो करोड़ रोजगार मुहैया कराना चाहती थी, विदेशों से काला धन लाने का जोर-शोर से उल्लेख किया गया था और प्रत्येक नागरिक के खातों में 15-15 लाख डालने का वादा था। केंद्र की सरकार ना जाने कितने वादों से नाता तोड़ते हुए 2019 के घोषणा पत्र पर बयानबाजी कर रही है, जबकि देश में सबसे ज्वलंत समस्या रोजगार प्रदान करने की है, जो मोदी जी की सरकार के कार्यकाल में रोजगार में कमी आना अपने 45 वर्षों के सबसे निचले स्तर पर है। वहीं विदेशों से काला धन लाने के नाम पर कुछ प्रगति नहीं हुई है और अब इस विषय को लेकर कोई चर्चा भी नहीं की जा रही है।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता मोहम्मद असलम ने अपने बयान में कहा है कि 50 दिनों का कार्यकाल किसी भी सरकार के कामकाज के आकलन को मापने का पर्याप्त आधार नहीं है, ना ही सरकार को अपनी उपलब्धियों का बढ़-चढ़कर बखान ही करना चाहिए। प्रचंड बहुमत से दोबारा चुनकर आने का यह भी मतलब नहीं निकाला जाना चाहिए कि अपने बीते कार्यकाल के दिनों के वादों से मुंह मोड़ते हुए उसे भुलाने का प्रयास हो और पुराने वादों पर पर्दा डाल दिया जाए। कांग्रेस पार्टी मोदी सरकार के दोबारा सत्ता में आने के कारण वर्ष 2014 और 2019 के घोषणापत्र पर अमल कराने के लिए सड़क एवं सदन में अपनी आवाज बुलंद करते रहेगी और सदैव उन्हें उनके वादों और घोषणाओं का स्मरण दिलाती रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *