क्राफ्ट बाजार भिलाई में दिखी भारत के विभिन्न शिल्प संस्कृति की झलक

Last Updated on

रायपुर, 13 फरवरी 2020/ छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास बोर्ड द्वारा दस दिवसीय अखिल भारतीय क्राफ्ट बाजार भिलाई में विभिन्न राज्यों से आए हस्तशिल्प कलाकरों की उत्कृष्ट कलाकृतियों की विविधता की झलक देखने को मिल रही है, जो ग्राहकों के लिए आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। उल्लेखनीय है कि ग्रामोद्योग मंत्री गुरू रूद्रकुमार ने दुर्ग शहर विधायक श्री अरूण वोरा की अध्यक्षता में 12 से 21 तक फरवरी तक चलने वाले इस दस दिवसीय क्राफ्ट बाजार मेले का शुभारंभ किया था।

क्राफ्ट बाजार में आंध्रप्रदेश के हैदराबादी ज्वेलरी, कर्नाटक के बिड ज्वेलरी, झारखंड का हैंड इमाब्राइडरी, जम्मू-कश्मीर का हैण्डलूम एवं शॉल, पश्चिम बंगाल का हैण्ड ब्लॉक प्रिंटिंग मटेरियल, खुरजा उत्तरप्रदेश के सिरेमिक पॉट एवं आकर्षक गुलदस्तेें के अलावा दिल्ली, हरियाणा, जयपुर, अहमदाबाद, महाराष्ट्र राज्यों एवं छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध हस्तशिल्प एवं हैण्डलूम कोसा के उत्पाद इस मेले के मुख्य आकर्षण है। यह दस दिवसीय मेला भिलाई के सिविक सेंटर स्थित मेला ग्राउण्ड भिलाई होटल के सामने में लगाया गया है। जहां भारत के विभिन्न राज्यों के अलावा छत्तीसगढ़ के 75 स्टॉलों में विभिन्न प्रकार के रंग-बिरंगी विविधिता लिए हस्तशिल्प एवं हैण्डलूम उत्पादों की बिक्री हो रही है। मेले में अन्य राज्यों से आए कलाकारों को एक अच्छा बाजार मिल रहा है। जिससे आगंतुक कलाकारों को छत्तीसगढ़ के ग्राहकों की पसंद और हस्तशिल्प उत्पादों के प्रति रूचि से रू-ब-रू हो रहे हैं।